शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

बेलूर मठ और कलकत्ता की बस-------यात्रा 5

दक्षिणेश्वर मंदिर हुगली गंगा के किनारे पर स्थित हैं यहां से बेलुर मठ के लिए नाव जाती है जो कि नदी के दूसरे किनारे पर स्थित है। हूगली नदी पानी से लबालब भरी हुई थी। बताते हैं इस नदी में शार्क मछलियां भी है जो यदा कदा मछुआरों के जाल में फ़ंस जाती है। इस नदी के बीच में पानी मे से रेत निकालने वाली मशीन भी लगी हैं जो रेत निकाल कर नाव में भरती है और यह रेत भवन निर्माताओं तक पहुंचती है। इस तरह नदी के पानी में से रेत निकालना मैने पहली बार देखा था। नाव वाले ने एक साथ 25 लोगों को नाव में सवार किया। इसका किराया प्रति व्यक्ति 10 रुपए था। हमारे साथ और भी अन्य लोग सवार हुए, कुछ लोगों ने सवार होने से पहले नाव को प्रणाम किया। मैं यह सब देख रहा था।

बरसात का मौसम होने के कारण नदी का पानी हिलोरें ले रहा था। नाव डगमगाती सी लगती थी। यहां नाव डूबने की घटनाएं होते रहते हैं। हमें तो तैरना आता है, लेकिन नदी के बहते पानी में तैरना और स्विमिंग पुल में तैरने में बहुत अंतर है। लेकिन मैने नदी में भी बहुत तैराई की है, इसलिए नदी में तैरने का भी अनुभव है। कुछ टूरिस्ट हमारे साथ नाव पर दार्जलिंग के भी मिल गए। उन्होने बताया कि दार्जलिंग में अभी तो छुट्टी चल रही हैं। वे सरकारी कर्मचारी है। दार्जलिंग में गोरखा आन्दोलन के चलते सभी दफ़्तर बंद हैं। कर्मचारी घर में बैठ कर आराम कर रहे हैं या पर्यटन के लिए निकल गए हैं। बोड़ो, गोरखा, नगा, कुकी, उल्फ़ा, सुल्फ़ा, इत्यादि आन्दोलनों ने इस सुंदर उत्तर-पूर्व के क्षेत्र के लोगों का जीना हराम कर दिया है। यह इलाका भी स्वर्ग से कम नही है। लेकिन उग्रवादी लोगों को स्वर्गवासी बनाने पर तूले हुए हैं। हमारी उनसे चर्चा होते रही। थोड़ी देर में नाव बेलुर मठ के पिछले दरवाजे के पास बने घाट पर लग चुकी थी, हम बेलुर मठ तक पहुंच चुके थे।

बेलूर मठ में एक बहुत सुंदर विशाल भवन है, जिसके चित्र यदा कदा देखने में आते हैं, यहां पर रामकृष्ण परम हंस की मूर्ती रखी हुई है। जिसके दर्शन निश्चित समय पर कराए जाते हैं। हम भी हाल में जाकर चुप चाप बैठ गए, कोई दो घंटे के बाद दर्शन हुए। लोगों ने आरती इत्यादि की। इसके बाद हम बेलुर मठ में घुमने निकले। एक जगह विवेकानंद विश्रांति स्थल हैं जहां पर उनका स्मारक बनाया हुआ है। इसे ओम मंदिर भी कहा जाता है। बेलुर मठ में दोपहर को भोजन मुफ़्त मिलता है, इसके लिए टोकन लेकर लाईन लगानी पड़ती है। हमारे पास इतना समय नहीं था कि टोकन लेकर भोजन के लिए लाईन लगायें। इसलिए हम बेलुर मठ से दर्शन करके बाहर निकल गए, और बस पकड़ने के लिए रोड़ तक पैदल चल कर पहुंचे।

बाबा धाम की यात्रा में हम अपने साथ कैमरे नहीं रखते क्योंकि रास्ते में कांवड़ियों के साथ लूट पाट हो जाती है। मैने सिर्फ़ मोबाईल रखा था सस्ता जिससे बात हो सके और लुट जाने पर कोई तकलीफ़ न हो। बाकी साथियों ने तो मोबाईल भी नहीं रखा था सब घर पर छोड़ आए थे। बात करनी होती थी तो एसटीडी पर कर लेते थे और उन्होने अपने घर मेरा मोबाईल नम्बर दे रखा था। इमरजेंसी में उनके घर के लोग मेरे मोबाईल पर फ़ोन कर सकते थे। इसलिए इस यात्रा के चित्र मेरे पास उपलब्ध नहीं है। जो भी चित्र हैं सब गुगल से साभार लिए गए हैं। अगर किसी को आपत्ति होती है तो हटा दिए जा सकते हैं।सड़क पर पहुंच कर हमने चाय पी, चाय का जिक्र इसलिए कर रहा हूँ कि यह कुछ विशेष है, हमने 5-5 कप चाय पी थी। यहां 1 रुपए में चाय छोटे छोटे सकोरे में दी जाती है जिसमें सिर्फ़ एक घूंट चाय ही आती है। इसलिए हमें अपनी चाय की इच्छा शांत करने के लिए 5-5 सकोरे चाय पी । इसके बाद कलकत्ता की नगरीय बस सेवा का आनंद पहली बार लिया। इतनी खटारा बस में हम पहली बार बैठे होगें। इसकी बॉडी भी अंग्रेजों के जमाने की लकड़ियों की बनी हुई थी। टीन टप्पर लगा हुआ था, जो बाबूजी की पैंट फ़ाड़ने के लिए काफ़ी था। हिचकोले लेती हुई बस कलकत्ता शहर के बीचों बीच रही थी जमाने को चिढाते हुए। अरे दो चार रुपए किराया बढा दो लेकिन बसें तो अच्छी रखो। ऐसी सलाह हमने बस वालों को दी।

चित्र - गुगल से साभार
ललित शर्मा Indli - Hindi News, Blogs, Links

4 टिप्‍पणियां:

  1. अरे दो चार रुपए किराया बढा दो लेकिन बसें तो अच्छी रखो। ऐसी सलाह हमने बस वालों को दी।
    शायद उनलोगों ने अब आपकी बात मान ली होगी .. रोचक ढंग से चल रही है आपकी यात्रा .. अगली कडी का इंतजार है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कब हुयी थी यह यात्रा -बड़े जोरदार है ! हुगली ,बेल्लूर मठ से बैजनाथ धाम ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. @Arvind Mishra

    अभी यह यात्रा तो बहुत लम्बी चलनी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. @संगीता पुरी

    ये कामरेड माने तो सही किसी की।
    फ़िर मुफ़्त में सलाह देने में अपने कौन से टके खर्च हो गए।
    हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं